जानें मराठा सम्राट और महान योद्धा छत्रपति शिवाजी के गौरवशाली जीवन के बारे में

Chhatrapati Shivaji biography in hindi. जब भी मराठा इतिहास की बात की जाती है तो उसमें सबसे पहले छत्रपति शिवाजी का ही नाम आता है| उन्होंने अपने शासनकाल में मराठाओं का काफी विस्तार किया| तो चलिए आज जानते हैं छत्रपति शिवाजी के शानदार जीवन के बारे में|

  • शिवाजी का असली नाम शिवाजी भोसले था लेकिन उनके चाहने वाले उन्हें ‘छत्रपति’ और ‘क्षत्रिय के मुख्या’ के नाम से बुलाते थे|
  • 1674 में रायगड में अपने शासन के समय शिवाजी को छत्रपति की उपाधि मिली|

chhatrapati shivaji biography in hindi

  • प्रतापगढ़ के युद्ध में बीजापुर के सुलतान अफज़ल खान के खिलाफ उन्होंने बेहतरीन रणनीति, रफ़्तार और सेनापतित्व का प्रदर्शन किया|
  • इस युद्ध के बाद वह रातों-रात मराठाओं के बीच प्रसिद्ध हो गए|
  • मुगल राज के दौरान शिवाजी ने बहादुरी से औरंगज़ेब को ललकारा था जिसने उन्हें बहुत प्रसिद्धी दिलाई थी|
  • औरंगज़ेब ने कई बार शिवाजी के इलाके को कब्ज़ाने की कोशिश की| शिवाजी की चतुर रणनीति के कारण औरंगज़ेब के हाथों कुछ ख़ास नहीं लगा|
  • शिवाजी को भारतीय नौसेना के पिता के रूप में भी जाना जाता है|

ये भी पढ़ें: Explore These Top Five Famous Temples in Tamil Nadu

chhatrapati-shivaji

More in Chhatrapati Shivaji biography in hindi

  • उन्होंने ही पहली बार नौसेना की अहमियत समझी थी और कोंकण, महाराष्ट्र में मौजूद किलों के पास नौसेना को तैनात किया|
  • शिवाजी की माँ ने अपनी स्थानीय देवी शिवाई से एक लड़के की कामना की थी| उन्हें जब शिवाजी के रूप में पुत्र प्राप्ति हुई तब उन्होंने देवी के नाम पर शिवाजी का नाम रखा|
  • शिवाजी की सेना में हर धर्म के सैनिक मौजूद थे| वह बस मुग़ल शासन के खिलाफ थे और मराठा शासन लाना चाहते थे|
  • शिवाजी महिलाओं के हक़ की भी रक्षा करते थे| महिलाओं के खिलाफ कोई भी हिंसा, छेड़छाड़ या दुर्व्यवहार उन्हें पसंद नहीं था| अगर कोई ऐसा करते हुए पकड़ा जाता था तो उसे इसकी सज़ा भी दी जाती थी|

ये भी पढ़ें: राजनीति में भी चमक चुके हैं छोटे पर्दे के ये बड़े सितारे

chhatrapati shivaji biography

  • शिवाजी अपने इलाके से इतनी अच्छी तरह वाखिफ थे कि वहां आने वाले दुश्मन पर वह कई प्रकार के हमले कर सकते थे| इसलिए उन्हें पहाड़ों का चूहा भी कहा जाता था|
  • 1680 में लंबी बीमारी के चलते शिवाजी की मौत हो गई| उनकी मौत के बाद उनके बेटे संभाजी ने सारा राजपाठ संभाला|

For more stories like chhatrapati shivaji biography, follow us on FacebookTwitter and Google+.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

The content and images used on this site are copyright protected and copyrights vests with their respective owners. The usage of the content and images on this website is intended to promote the works and no endorsement of the artist shall be implied. Read more detailed ​​disclaimer
Copyright © 2018 Tentaran.com. All rights reserved.