Breathing exercise ke fayde in hindi : जानिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज क्या है, इसके लाभ और करने की प्रक्रिया

Breathing exercise ke fayde in hindiBreathing exercise ke Labh in hindiहम अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए विभिन्न प्रकार के योग तथा एक्सरसाइज करते हैं। इसी के साथ ब्रीदिंग एक्सरसाइज भी हमारे शरीर को मानसिक तथा शारीरिक रूप से फिट रखती है। आजकल अधिकतर लोगों को ब्रीदिंग एक्सरसाइज के विषय में उचित जानकारी प्राप्त नहीं है लेकिन हम आपको बता दें, शरीर में सांस से जुड़ी समस्याओं के प्राकृतिक निवारण के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज बेहद लाभकारी है। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से यही बताने वाले हैं कि ब्रीदिंग एक्सरसाइज आपके शरीर के लिए किस प्रकार लाभकारी है तथा ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने के तरीके कौन कौन से हैं?

Breathing exercise ke fayde in hindi –  fitness tips

ब्रीदिंग एक्सरसाइज क्या है? Breathing exercise kya hai

ब्रीदिंग एक्सरसाइज एक ऐसा अभ्यास है जो सांस लेने की गतिविधि से जुड़ा है। सामान्य तौर पर कहा जाए तो ब्रीदिंग एक्सरसाइज सांस लेने का एक अभ्यास है जो शारीरिक रूप से सेहतमंद रहने के लिए कई लोगों द्वारा अपने एक्सरसाइज सूची में शामिल किया जाता है। सांस से संबंधित समस्याओं में ब्रीदिंग एक्सरसाइज कारगर साबित हो सकती  है। हाल ही में संपूर्ण विश्व में फैले कोविड-19 के संक्रमण से मरीज को सांस लेने में काफी दिक्कत होती है, ऐसे में इस भयंकर महामारी से बचने में भी ब्रीदिंग एक्सरसाइज महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है। अपने शरीर में ऑक्सीजन के लेवल को उचित रखने में ब्रीदिंग एक्सरसाइज आपकी बेहद मद्द कर सकती है।

Breathing exercise ke fayde in hindi

ब्रीदिंग एक्सरसाइज के लाभ – Breathing exercise ke Labh in hindi 

फेफड़ों को स्वस्थ रखने में सहायक: ब्रीदिंग एक्सरसाइज से शरीर के फेफड़ों की कार्यप्रणाली में सुधार हो सकता है। ब्रीदिंग एक्सरसाइज से फेफड़े स्वस्थ रह सकते हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कई ऐसे योग हैं जो ब्रीदिंग एक्सरसाइज में शामिल किए जाते हैं। प्राणायाम भी उन योगों में से एक है। प्राणायाम का अभ्यास करने से रक्त शुद्ध हो सकता है तथा फेफड़ों की क्षमता का विकास हो सकता है।

ऑक्सीजन फ्लो में सहायक – ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से शरीर में ऑक्सीजन फ्लो भी बेहतर बना रहता है। ब्रीदिंग एक्सरसाइज से वेंटिलेशन फंक्शन में भी सुधार हो सकता है। हृदय, किडनी, मस्तिष्क आदि अंगों में ऑक्सीजन फ्लो बेहतर हो सकता है। यह शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा कम करती है।

Breathing exercise ke fayde in hindi

सेहत में लाभकारी: नियमित रूप से ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से शरीर कई बीमारियों से बचा रह सकता है। ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने पर हृदय गति नियंत्रण में रहती है तथा ब्लड प्रेशर की मात्रा भी उचित बनी रह सकती है। इतना ही नहीं ब्रीदिंग एक्सरसाइज से पाचन क्रिया व नींद की समस्या में भी सुधार हो सकता है।

मानसिक तनाव से मुक्ति – ब्रीदिंग एक्सरसाइज से शारीरिक ही नहीं बल्कि मानसिक लाभ भी प्राप्त होता है। दरअसल, एब्डॉमिनल ब्रीदिंग करने से दिमाग तथा शरीर दोनों को ही शांति प्रदान की जा सकती है। अतः ब्रीदिंग एक्सरसाइज से पेट श्वसन की प्रकिया अपनाकर तनाव से छुटकारा पाया जा सकता है।

Benefits of Breathing Exercises

स्वास्थ्य समस्याओं में लाभकारी– विभिन्न प्रकार की शारीरिक समस्याओं तथा फेफड़ों की बीमारियों में भी ब्रीदिंग एक्सरसाइज की भूमिका लाभदायक मानी गई है। क्रोनिक अस्थमा, क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव प्लमोनरी डिजीज़ ये फेफड़ों की बीमारियां हैं जिनमें ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से काफी आराम मिल सकता है इसके साथ ही एसिडिटी की समस्या में भी ब्रीदिंग एक्सरसाइज लाभदायक मानी गई है।

Must read: तेज़ी से घटाना है वज़न तो करें एरोबिक एक्सरसाइज, होंगे कई जबरदस्त फायदे

Breathing exercise ke fayde in hindi

ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने के विभिन्न प्रकार – types of Breathing exercise

 ब्रीद ऑफ फायर ( Breath of fire) 

सर्वप्रथम आपको बता दें कि ब्रीद ऑफ फायर को प्राणायाम में कपालभाति के नाम से जाना जाता है। इस प्रकार कपालभाति दो शब्दो से मिलकर बना है, कपाल यानी माथा तथा भाति का अर्थ है प्रकाश। शोधकर्ताओं के मुताबिक कपालभाति प्राणायाम शरीर के पूरे श्वसन तंत्र को शुद्ध कर सकता है। ब्रीद ऑफ फायर नाम की यह एक्सरसाइज त्वचा को निखार देने में साथ ही शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति को बढ़ावा दे सकती है। मानसिक एकाग्रता को बढ़ाने के अलावा पेट की चर्बी को कम करने में भी कपालभाति प्रणाम बेहद लाभकारी हो सकता है।

ब्रीद ऑफ फायर (कपालभाति प्राणायाम) ब्रीदिंग एक्सरसाइज कैसे कर सकते हैं-

  • इस एक्सरसाइज को करने के लिए सबसे पहले किसी साफ जगह पर मैट बिछा लें।
  • तत्पश्चात् पद्मासन, सुखासन या व्रजासन तीनों में से किसी भी एक मुद्रा में बैठ जाएं।
  • अब अपनी कमर को सीधा करके अपनी उंगलियों को ज्ञान मुद्रा में बनाकर घुटनों पर रख लें तथा आंखे बंद कर लें।
  • इसके बाद मन व तन को शांत करते हुए लंबी व गहरी सांसे लेना शुरू करें।
  • पेट को अंदर खींचने के साथ ही नाक से सांस बाहर झ्टके से छोड़ते रहें। यह प्रक्रिया तेज़ी से की जाती है।
  • इस प्रक्रिया में मुंह को बंद ही रखें तथा नाक से सांस लें, इस प्रकार यह प्रक्रिया 15-20 बार लगातार करें, जिससे यह प्राणायाम का एक चक्र पूरा हो जाता है।

Breathing exercise ke fayde in hindi

लॉयन ब्रीदिंग (Lion Breathing) एक्सरसाइज

लॉयन ब्रीदिंग एक्सरसाइज, ब्रीदिंग एक्सरसाइज का एक प्रकार है जिसे सिम्हासना प्राणायाम के नाम से जाना जाता है। सिम्हासना दो शब्दों से मिलकर बना है, जिसमें सिम्हा का अर्थ है सिंह तथा आसन का अर्थ मुद्रा होता है। इसका मतलब इस एक्सरसाइज को करते समय शेर की दहाड़ लगानी होती है। शोधकर्ताओं के मुताबिक लॉयन ब्रीदिंग एक्सरसाइज सीने से जुड़ी समस्याओं, हकलाने की समस्या आदि को दूर कर सकती है। इसके साथ ही लॉयन ब्रीदिंग एक्सरसाइज का लाभ मुंह की दुर्गध को समाप्त करने तथा जीभ को साफ करने के लिए भी प्राप्त होता है।

लॉयन ब्रीदिंग एक्सरसाइज (सिम्हासना प्राणायाम) कैसे कर सकते हैं –

  • यह एक्सरसाइज करने के लिए सबसे पहले सास फर्श पर मैट बिछा लें।
  • इसके बाद इस लॉयन ब्रीदिंग एक्सरसाइज को करने के लिए व्रजासन में बैठ जाएं।
  • तत्पश्चात् अपने बाजुओं को सीधा रखते हुए हाथों को घुटनों पर रखें।
  • नाक से गहरी सांसे लेते हुए कंधों को ऊपर उठाएं, फिर हाथों की उंगलियों को फैलाते हुए घुटनों को दबाएं।
  • इसके बाद आंखे बड़ी करते हुए ऊपर की ओर देखना शुरू करें, जीभ बाहर निकाल लें।
  • सांस छोड़ते हुए शेर की दहाड़ जैसी आवाज़ निकालना शुरू कर दें, आवाज़ गले की जगह पेट से निकलनी चाहिए।
  • लॉयन ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से पहले ध्यान दें कि यदि आपके घुटने में चोट लगी है तो इस एक्सरसाइज को करने से परहेज़ करें। इसके साथ ही गर्भावस्था के समय डॉक्टर के परामर्श से ही लॉयन ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें। यदि आपके कलाई में कोई पीड़ा है तो इस एक्सरसाइज को करते समय कलाई पर अधिक ज़ोर ना दें।

Must read: कुछ ही दिनों में हाथों का फैट कम कर देंगी ये एक्सरसाइज

Breathing exercise ke fayde in hindi

लिप ब्रीदिंग (Lip Breathing) एक्सरसाइज

लिप ब्रीदिंग एक ऐसी ब्रीदिगं एक्सरसाइज है जो किसी भी समय, बेहद आसानी से कहीं पर भी की जा सकती है। एक अध्ययन के मुताबिक लिप ब्रीदिंग एक्सरसाइज शरीर की ऑक्सीजन स्तर में सुधार कर सकती है। फेफड़ों की सूजन से परेशान रोगियों के लिए भी लिप ब्रीदिंग काफी लाभकारी एक्सरसाइज मानी गई है। लिप ब्रीदिंग एक्सरसाइज सांस लेने में आने वाली तकलीफों को दूर करने के साथ ही उसकी कार्यक्षमता को मज़बूत करने में सक्षम हो सकती है।

लिप ब्रीदिंग एक्सरसाइज कैसे की जाती है – deep Breathing exercise

  • लिप ब्रीदिंग एक्सरसाइज को करने के लिए किसी भी साफ जगह पर बैठ जाएं।
  • इसके बाद मुंह को बंद रखकर, नाक के माध्यम से गहरी सांस लें।
  • इसके बाद अपने होठों को “ओ” बोलने जैसे आकार में लेकर आएं।
  • अब धीरे – धीरे नाक से ली गई सांस को, मुंह के माध्यम से छोड़ते रहें।
  • इस प्रकार यह प्रक्रिया 5 से 6 बार कर सकते हैं जिससे एक्सरसाइज का एक राउंड पूरा हो जाता है।
  • लिप ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने से पहले ध्यान रहें कि मुंह के माध्यम से छोड़ने वाली सांस को धीरे-धीरे बाहर निकालें।

Breathing exercise ke fayde in hindi

हमिंग बी ब्रीद( humming bee breath) – benefits of Breathing exercise

हमिंग बी ब्रीद का दूसरा नाम भ्रामरी प्राणायाम है। शोधकर्ताओं के अनुसार, भ्रामरी प्राणायाम मस्तिष्क को शांत करने के साथ ही क्रोध व नकारात्मक विचारों को भी दूर रख सकता है। इसके साथ ही भ्रामरी प्राणायाम मस्तिष्क से जुड़ी माइग्रेन की समस्या, हृदय रोग तथा अन्य विकारों को भी दूर करने में भी लाभकारी माना गया है। इसके अलावा भी भ्रामरी प्राणायाम के विभिन्न लाभ हैं, जैसे लकवा की समस्या तथा नींद से जुड़ी समस्याओं से भी राहत मिल सकती है।

कैसे करें

  • सर्वप्रथम किसी भी साफ जगह पर जाकर, मैट बिछा लें व उस पर बैठ जाएं।
  • आप शांत जगह पर जाकर ही इस प्राणायाम को करें।
  • मैट पर बैठने के बाद आंखे बंद कर लें।
  • इसके बाद अपने अंगूठे से कानों को बंद कर लें और अपनी अनामिका उंगली तथा मध्य की उंगली को आंखों पर रखें।
  • इसके बाद मुंह बन्द करके नाक के माध्यम से गहरी सांस लें। मुंह को बंद रखते हुए ही मधुमक्खी जैसी हम्मम की आवाज़ निकाले और सांस को बाहर छोड़ते रहें।
  • यह प्राणायाम 15-20 सेकंड तक करें। इसके बाद दोबारा सांस लें और यही प्रक्रिया 3-4 बाद दोहराते रहें।

 Breathing exercise ke fayde in hindi

डीप ब्रीदिंग (deep Breathing) एक्सरसाइज – breathing exercise benefits in Hindi

ब्रीदिंग एक्सरसाइज में डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज भी शामिल है। एनसीबीआई की आधिकारिक वेबसाइट पर प्रकाशित एक लेख के अनुसार, यह एक्सरसाइज तनाव को कम कर सकती है तथा शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मद्द करती है। इसके साथ ही एक शोध के मुताबिक, डीप ब्रीदिंग फेफड़ों के लिए भी बेहद उपयोगी मानी गई है। इसके ज़रिए निमोनिया तथा ऑक्सीजन की कमी होने जैसी समस्याओं से भी निजात मिल सकता है। बच्चों के लिए भी डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज काफी लाभदायक हो सकती है।

कैसे करें   – Breathing exercises benefits in hindi

  • डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने के लिए सबसे पहले एक साफ तथा शांत वातावरण ढूंढ लें।
  • इसके बाद स्वच्छ जगह पर मैट बिछाकर बैठ जाएं तथा रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें।
  • अब नाक के माध्यम से गहरी गहरी सांसे लें तथा धीरे – धीरे करके इसे बाहर छोड़ते रहें।
  • यह प्रक्रिया लगभग 15 मिनट तक के लिए जारी रखें।

Must read: फिट रहने के लिए डेली घर पर करें कार्डियो एक्सरसाइज

Breathing exercise ke fayde in hindi, हमारे फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर हमें फ़ॉलो करें और हमारे वीडियो के बेस्ट कलेक्शन को देखने के लिए, YouTube पर हमें फॉलो करें।

Disclaimer: This article is solely for informational purposes. Do not self-diagnose or self-medicate, and in all cases consult a certified healthcare professional before using any information presented in the article. The editorial board does not guarantee any results and does not bear any responsibility for any harm that may result from using the information provided in the article.