Hing ke nuksan in hindi – हींग के अधिक सेवन से हो सकते हैं ये नुकसान

Hing ke nuksan in hindi

Hing ke nuksan in hindi –  हींग के नुकसानhing khane ke nuksan in hindi –  हमारी रसोईघर में कई ऐसे छोटे मोटे मसाले हैं, जिनके उपयोग से आपकी पाचन क्रिया स्वस्थ और मजबूत बनी रहेगी। उन्हीं मसालों में से एक है हींग, जिसके सेवन से पाचन अच्छा रहता है, लेकिन क्या आपको ये पता है कि हींग के ज़्यादा सेवन से शरीर को नुकसान भी हो सकता है। हींग का अधिक सेवन आपको नुकसान पहुंचा सकता है। तो चलिए आपको बताते हैं हींग के अधिक सेवन से आपको कौन- कौन सी बीमारियां, परेशानियां हो सकती हैं। जानिए हींग के नुकसान Hing ke nuksan in hindi
Hing ke nuksan in hindi

Hing ke nuksan in hindi – hing khane ke nuksan in hindi

हींग क्या है? Hing kya hai  – Hing ke nuksan in hindi
हींग एक लेटेक्स यानी एक प्रकार का चिपचिपा पदार्थ है, जिसे फेरूला एसाफिटिडा जड़ी बूटी और कई किस्मों की जड़ों से निकाला जाता है। इसका पौधा मुख्‍य रूप से भू-मध्यसागरीय पूर्वी क्षेत्र और मध्य एशिया में पाया जाता है। हींग में कई प्रकार के औषधीय गुण मौजूद होते हैं, खासतौर पर हींग पाचन में सुधार लाने में उपयोगी मानी जाती है। आयुर्वेद में हींग को रेचक (मल निष्‍कासन की क्रिया में सुधार लाने वाला) और पेट फूलने की समस्‍या से राहत प्रदान करने वाली एक औषधि बताया गया है। हींग जिस पेड़ की जड़ी बूटी है, वह फेरुला जड़ी बूटी की लगभग 170 प्रजातियां मौजूद हैं जिनमें से तीन प्रजातियों को भारत के कश्‍मीर और पंजाब राज्‍य में उगाया जाता है।

Hing ke nuksan in hindihing khane ke nuksan in hindi

हींग के बारे में तथ्‍य – Hing ke nuksan in hindi

वानस्पतिक नाम – फेरुला एसाफिटिडा

कुल- एपिएसी

सामान्‍य नाम – हींग, हींगर, कायम, यांग, हेंगु, इंगुवा, हिंगु

संस्‍कृत नाम – हिंगु

Hing ke nuksan in hindi

उपयोगी भाग – जड़ और राइजोम का सूखा लैटैक्‍स (चिपचिपा पदार्थ)

भौगोलिक विवरण – मध्य और पूर्वी एशिया के भूमध्यसागरीय क्षेत्र।

Must read: जानिए विटामिन ए की कमी के लक्षण और उपचार

Hing ke nuksan in hindihing ke nuksan bataye hindi

हींग के नुकसान

  • यदि आप हींग का अधिक सेवन करते हैं तो हींग के अत्यधिक सेवन से आपके होंठों में असामान्य तरीके से सूजन हो सकती है।
  • हींग का अधिक सेवन गैस यादस्तजैसी समस्याओं को जन्म दे सकता है जिससे आपको पेट में जलन महसूस भी हो सकती है।
  • कुछ लोगों में हींग के सेवन से त्वचा पर रैशेस भी उत्पन्न हो सकते हैं जिससे त्वचा पर नकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है।
  • यूं तो उचित मात्रा में हींग का सेवन सिर दर्द का उपचार कर सकता है, लेकिन वहीं इसी जड़ी-बूटी का ज़्यादा उपयोग सिर दर्द एवं चक्कर का कारण भी बन सकता है।
  • हींग की खपत से उच्च रक्तचाप और निम्न रक्त चाप भी संबंधित हैं। अतः जो व्यक्ति भी उच्च या निम्न रक्त चाप से पीड़ित है उन्हें हींग खाने से बचना चाहिए और यदि इसका सेवन करना भी पड़ रहा है तो ध्यान रहे कि इसकी खपत को कम से कम रखना चाहिए।

Must read: त्वचा व बालों का निखार बढ़ाने में सहायक है अखरोट का तेल

Hing ke nuksan in hindi

  • विशेष रूप से गर्भवती और स्तनपान करा रही महिलाओं को हींग के सेवन से बचना चाहिए। यह रक्त-सम्बंधित समस्याओं को उत्पन्न कर सकता है।
  • यूं तो हींग बहुत ही गुणकारी पदार्थ है, लेकिन इसके सेवन से कुछ लोगों के होंठों में सूजन भी होने लगती है। हालांकि यह सूजन कुछ घंटों या दिनों तक ही रहती है लेकिन अगर ऐसा नहीं होता और सूजन गर्दन और चेहरे पर बढ़ने लगे, तो बिना वक्त खराब किए डॉक्टर से जांच करानी चाहिए।
  • यदि आपको पैरालिसिस हो चुका है तो आपको हींग से उचित दूरी बनाकर रखना आवश्यक है। हींग के सेवन आपके शरीर में पैरालिसिस अटैक होने की दोबारा संभावना रहती है।

Hing ke nuksan in hindi

  • हींग के अत्यधिक सेवन से सीने में जलन, सिर दर्द, पेट का खराब पाचन जैसी समस्याएं पैदा होने के साथ ही सेंट्रल नर्वस सिस्टम से जुड़ी समस्याओं को भी हो सकती हैं।

Must read: सेतुबंधासन करने का तरीका और फायदे

Hing ke nuksan in hindi, हमारे फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर हमें फ़ॉलो करें और हमारे वीडियो के बेस्ट कलेक्शन को देखने के लिए, YouTube पर हमें फॉलो करें।

Disclaimer: This article is solely for informational purposes. Do not self-diagnose or self-medicate, and in all cases consult a certified healthcare professional before using any information presented in the article. The editorial board does not guarantee any results and does not bear any responsibility for any harm that may result from using the information provided in the article.