Skin tight karne ke gharelu upay – त्वचा को कुछ हद तक टाइट बनाए रखने में मद्द कर सकते हैं ये घरेलू उपाय

Skin tight karne ke gharelu upay

Skin tight karne ke gharelu upay – Skin Tightening Home Remedies – skin tight karne ke gharelu nuskhe in hindi – हर व्यक्ति की यह इच्छा होती है कि उसकी त्वचा का निखार हमेशा बरकरार रहें। 40-50 साल की उम्र में भी हर कोई जवान और खूबसूरत दिखना चाहता है और हो भी क्यों ना, आखिर चेहरे की चमक इंसान के अंदर आत्मविश्वास और आकर्षण पैदा करती है। चेहरे की सुंदरता तथा निखार को बनाए रखना इतना आसान नहीं है। बढ़ती उम्र के साथ चेहरे की चमक कम होने लगती है। त्वचा का ढीलापन और चेहरे पर झुर्रियां साफ दिखने लगती हैं। चेहरे पर यह लक्षण 30 साल की उम्र के बाद से ही शुरू हो जाते हैं। ऐसे में आज का हम आपके लिए कुछ ऐसे घरेलू उपाय लेकर आए हैं जिनको करके आप अपनी त्वचा में कसाव और निखार दोनों ला सकते हैँ।

Skin tight karne ke gharelu upay

Skin tight karne ke gharelu upay – Tips for skin tightening in Hindi

त्वचा के ढीलेपन का कारण

  • हम सभी जानते हैं कि बढ़ती उम्र के साथ हमारी त्वचा में कनेक्टिव टिशूज कम होने लगते हैं जिस कारण त्वचा में कसाव कम होने लगता है।
  • धूप के संपर्क में अधिक रहने पर भी त्वचा ढीली पड़ जाती है।
  • ज़्यादा मेकअप करना भी एक विशेष कारण है।
  • उचित रूप से डाइट का ना मिलना भी त्वचा के ढीलेपन का कारण है।
  • शराब और धूम्रपान करने से भी त्वचा का निखार कम होने लगता है और कसाव कम होने लगता है।
  • चेहरे की नमी कम होने पर भी, त्वचा ढीली पड़ने लगती है।

Skin tight karne ke gharelu upay – Skin Tightening Tips In Hindi

चेहरे के कसाव (skin tightening) को बनाए रखने के लिए, अधिकतर लोग विभिन्न प्रकार की ब्यूटी प्रोडक्ट्स तथा मेडिकल प्रोडक्ट का सहारा लेते हैं लेकिन कभी – कभी इसका परिणाम यह होता है कि त्वचा का निखार बढ़ने की बजाय कम होने लगता है। ऐसे में ज़रूरी नहीं है कि आपको स्किन टाइटनिंग के लिए मेडिकल या अन्य किसी प्रोडक्ट का सहारा लेना पड़े। आपके घरेलू पदार्थ ही आपकी त्वचा में कसाव लाने में मद्द कर सकते हैं।

 Skin tight karne ke gharelu upay

नारियल का तेल (Coconut oil)
Skin tight karne ke gharelu upay

त्वचा का ढीलापन चेहरे के कोलेजन और इलास्टिक के टूट जाने के कारण होता है लेकिन नारियल का तेल एक ऐसा उपाय है जिसके ज़रिए आप अपनी त्वचा के ढीलेपन को आसानी से दूर कर सकते हैं। नारियल के तेल में कोलेजन की मात्रा अधिक पाई जाती है, ऐसे में नारियल के तेल का इस्तेमाल करने पर त्वचा में कोलेजन की मात्रा बढ़ती है जिससे चेहरे में कसाव पैदा होता है।

कैसे करें उपयोग – kaise kare upyog  – आप नारियल के तेल को शरीर पर लगाकर मालिश कर सकते हैं। इसका प्रयोग आप हफ्ते में एक दो बार नहाने से एक घंटा पहले कर सकते हैं।

बादाम का तेल (Almond oil)
Skin tight karne ke gharelu upay

त्वचा के ढीलेपन (Skin tightening) के लिए बदाम का तेल काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। बादाम के तेल में इमोलिइंट और स्केलेरोसेंट नामक गुण पाए जाते हैं जो चेहरे की मृत कोशिकाओं को पुनर्जीवित करने में सक्षम होते हैं। यह मृत कोशिकाओं को जीवित करने के साथ ही चेहरे की खूबसूरती को भी बढ़ाने में लाभकारी होते हैं इसलिए स्किन टाइटनिंग के लिए बदाम का तेल आपके लिए काफी लाभकारी हो सकता है।

कैसे करें उपयोग – आप बदाम के तेल से शरीर की मालिश कर सकते हैं। हफ्ते में एक से तीन बार आप बदाम के तेल से मालिश कर सकते हैं। नहाने से एक घंटा पहले मालिश करना उचित रहता है।

Must read: जानिए विटामिन ए की कमी के लक्षण और उपचार

Skin tight karne ke gharelu upay

 रोजमेरी ऑयल (Rosemerry oil)
Skin tight karne ke gharelu upay

चेहरे में कसाव पैदा करने के लिए रोजमेरी ऑयल का भी प्रयोग बेहद लाभकारी है। रोजमेरी ऑयल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण बढ़ती उम्र के साथ त्वचा के निखार को कम करने की बजाए और निखारना शुरू कर देती है। रोजमेरी का तेल त्वचा को टाइट करने के साथ ही इसकी इलास्टिक को भी मज़बूत बना कर रखती है। रोजमेरी ऑयल त्वचा को हाइड्रेट करने में भी बेहद लाभकारी साबित होता है इसलिए त्वचा में कसाव पैदा करने के लिए रोजमेरी ऑयल बेहद कारगर उपाय है।

कैसे करें उपयोग – रोजमेरी ऑयल को त्वचा पर इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले आप एक खीरा लें। इसके बाद इस खीरे को छीलकर पीस लें। इसके बाद इस पिसे हुए खीरे में 5 से 7 बूंद रोजमेरी ऑयल की मिलाकर मिश्रण तैयार कर लें। फिर इसे अपनी प्रभावित त्वचा पर लगाकर 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दें। करीबन आधे घंटे के बाद अपने चेहरे को साफ कर लें।

Skin tight karne ke gharelu upay

फिश ऑयल (Fish oil)
Skin tight karne ke gharelu upay

स्किन टाइटनिंग के लिए फिश ऑयल बेहद लाभकारी साबित होता है क्योंकि त्वचा में कसाव पैदा करने के लिए कोलेजन की भूमिका प्रमुख रहती है। बढ़ती उम्र के साथ शरीर में कोलेजन की मात्रा घटती है जिससे त्वचा में ढीलापन और झुर्रियां जैसी समस्याएं पैदा होने लगती हैं। ऐसे में फिश ऑयल विटामिन ई से युक्त पदार्थ है, जो त्वचा में कोलेजन की मात्रा बढ़ाने में बेहद लाभकारी है इसलिए स्किन टाइटनिंग में फिश ऑयल का प्रयोग भी प्रभावी रूप से किया जाता है।

कैसे करें उपयोग – फिश ऑयल का इस्तेमाल बेहद आसानी से कर सकते हैं। इसके लिए आप फिश ऑयल लेकर अपनी त्वचा पर 15 से 20 मिनट मालिश कर सकते हैं। फिश ऑयल को आप अपनी त्वचा पर रात भर लगाकर छोड़ सकते हैं या फिर आप कुछ घंटे बाद इसे धो सकते हैं।

Must read: कोरोना की चौथी लहर, ये 24 गंभीर लक्षण बच्चों और वयस्कों में आ सकते हैं नज़र

 ऑलिव ऑयल (olive oil)
Skin tight karne ke gharelu upay

ऑलिव ऑयल अत्यंत गुणकारी है। त्वचा से संबंधित विभिन्न समस्याओं में ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है। इसी तरह चेहरे की टाइटनिंग को ठीक करने के लिए तथा झुर्रियों की समस्याओं से बचने के लिए भी ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल किया जा सकता है। दरअसल ऑलिव ऑयल में पॉलीफेनॉल मौजूद होते हैं इसलिए ऑलिव ऑयल त्वचा के कसाव को मज़बूत कर सकता है।

कैसे करें उपयोग – आप ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल नहाने के बाद कर सकते हैं। इसके लिए आप नहाने के बाद शरीर को तौलिए से अच्छे से पोंछ लें और फिर इस तेल से त्वचा पर मालिश करें।

Must read: त्वचा व बालों का निखार बढ़ाने में सहायक है अखरोट का तेल

Skin tight karne ke gharelu upay

एलोवेरा (Alovera)
Skin tight karne ke gharelu upay

त्वचा से संबंधित किसी भी समस्या के लिए एलोवेरा (Alovera) बेहद लाभकारी है। अधिकतर लोग त्वचा की रंगत को बनाए रखने के लिए एलोवेरा जेल का इस्तेमाल करते हैँ। इसी के साथ skin tightening में भी एलोवेरा जेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। आप रात को सोते समय एलोवेरा जेल से अपने चेहरे की मसाज करें तथा सुबह को गर्म पानी से चेहरे को साफ कर लें।

कैसे करें उपयोग – आप एलोवेरा को काटकर त्वचा पर लगाएं।

Must read: जानिए, धूल से होने वाली एलर्जी के कारण, लक्षण और उपचार

Skin tight karne ke gharelu upay, हमारे फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर हमें फ़ॉलो करें और हमारे वीडियो के बेस्ट कलेक्शन को देखने के लिए, YouTube पर हमें फॉलो करें।

Disclaimer: This article is solely for informational purposes. Do not self-diagnose or self-medicate, and in all cases consult a certified healthcare professional before using any information presented in the article. The editorial board does not guarantee any results and does not bear any responsibility for any harm that may result from using the information provided in the article.