स्वतंत्रता दिवस 2022 – ये कविताएं दिलों में जगाती हैं देशभक्ति का जज़्बा

Please follow and like us:

Independence day poem in hindi– हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। इस दिन स्कूलों से लेकर राजनीति के गलियारों तक में देश की आज़ादी का जश्न मनाया जाता है। इस मौके पर लोग देशभक्ति से भरी कविताएं खूब सर्च करते हैं। ऐसे में हम आपके लिए ऐसी कविताएं लेकर आएं हैं, जिनसे आपको वतन की खुशबू मिलेगी। इन कविताओं को आप अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और अन्य को शेयर कर स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दे सकते हैं।

independence day poem

Swatantrata Diwas Par kavita in hindi – swatantrata diwas par kavita hindi mein

मेरा प्यारा देश

प्यारा प्यारा मेरा देश,
सबसे न्यारा मेरा देश।
दुनिया जिस पर गर्व करे,
ऐसा सितारा मेरा देश।
चांदी सोना मेरा देश,
सफल सलोना मेरा देश।
गंगा जमुना की माला का,
फूलों वाला मेरा देश।
आगे जाए मेरा देश,
नित मुस्काए मेरा देश।
इतिहास में बढ़-चढ़ कर,
नाम लिखाए मेरा देश।

Independence day poem in hindi – swatantrata diwas pr kavita Poem on Independence

Read More : Happy Independence Day  Wishes Images, Quotes, Status, Messages, Wallpaper, Photos and Pics

15 August Poem in Hindi – 15 August Poem 2022 Desh Bhakti Kavita – poem on independence day in hindi

जिस देश में गंगा बहती है’ (शैलेन्द्र)

होठों पे सच्चाई रहती है, जहां दिल में सफाई रहती है,
हम उस देश के वासी हैं, जिस देश में गंगा बहती है।
मेहमान जो हमारा होता है, वो जान से प्यारा होता है,
ज़्यादा का नहीं लालच हमको, थोड़े मे गुज़ारा होता है
बच्चों के लिए जो धरती माँ, सदियों से सभी कुछ सहती है,
हम उस देश के वासी हैं, जिस देश में गंगा बहती है।
कुछ लोग जो ज़्यादा जानते हैं, इन्सान को कम पहचानते हैं,
ये पूरब है पूरबवाले, हर जान की कीमत जानते हैं
मिल जुल के रहो और प्यार करो, एक चीज़ यहीं जो रहती है,
हम उस देश के वासी हैं जिस देश में गंगा बहती है।
जो जिससे मिला सीखा हमने, गैरों को भी अपनाया हमने,
मतलब के लिए अन्धे होकर, रोटी को नहीं पूजा हमने
अब हम तो क्या सारी दुनिया ये कहती है,
हम उस देश के वासी हैं, जिस देश में गंगा बहती है।

Independence day poem in hindi – hindi poem on independence day – Best Poem on Independence Day in Hindi
famous poems about independence day

कस ली है कमर’- (अशफाकउल्ला खां)

कस ली है कमर अब तो, कुछ करके दिखाएंगे,
आज़ाद हो लेंगे, या सर ही कटा देंगे
हटेंगे नहीं पीछे, डरकर कभी ज़ुल्मों से,
तुम हाथ उठाओगे, हम पैर बढ़ा देंगे
बेशस्त्र नहीं हैं हम, बल है हम में चरखे का,
परवाह नहीं कुछ दम की, गम की नहीं, मातम की
है जान हथेली पर, एक दम में गंवा देंगे,
उफ़ तक भी ज़ुबां से हम हरगिज़ न निकालेंगे
तलवार उठाओ तुम, हम सर को झुका देंगे,
सीखा है नया हमने लड़ने का यह तरीका
चलवाओ गन मशीनें, हम सीना अड़ा देंगे,
दिलवाओ हमें फांसी, ऐलान से कहते हैं
खून से ही हम शहीदों की फौज बना देंगे,
मुसाफिर जो अंडमान के, तूने बनाए ज़ालिम
आज़ाद ही होने पर, हम उनको बुला लेंगे।

 Must read: यहां देखें स्वतंत्रता दिवस पर बेहतरीन भाषण

Independence day poem in hindi – Independence Day Poem in Hindi

Best Poem On 15 August In Hindi – happy independence day 2022 poem in hindi – rhyming poem on independence day

भागी परतंत्रता’

भागी परतंत्रता,
आयी स्वतंत्रता
दिखलाई वीरता,
वीरों की ललकार
देशभक्त की पुकार,
आगे बढ़े तरुणाई
भारत को सजायेंगे,
रक्षक हम आज़ादी के
गौरव को बढ़ायेंगे,
रहस्त्र गीत गाएंगे
तिरंगा लहरायेंगे।

15 August Patriotic Poems in Hindi
Poem On Independence Day 2022 In Hindi –  short poem on independence day for school students

भारत देश हमारा प्यारा

भारत देश हमारा प्यारा,
सारे विश्व में है न्यारा
अलग -अलग हैं यहां रूप रंग,
पर सभी एक सुर में गाते
झंडा ऊँचा रहे हमारा,
हर परदेश की अलग ज़ुबान
पर मिठास की उनमे शान,
अनेकता में एकता पिरोकर
सबने मिल जुल कर देश संवारा,
लगा रहा है भारत सारा
हम सब एक है का नारा।

Independence day poem in hindi – 15 August Poem Kavita Swatantrata Diwas Independence Day Poems Desh Bhakti Kavita 

independence day Hindi Poem

है गर्व हमें आज़ादी पर’- निधी अग्रवाल

है गर्व हमें आज़ादी पर अपनी,
इसको कभी न मिटने देंगे।
झुका नहीं जो शीश कभी,
उसको हम न झुकने देंगे।
है गर्व हमें आज़ादी पर अपनी,
इसको कभी न मिटने देंगे।
है गर्व हमें कुर्बानी पर अपनी,
व्यर्थ इसे न होने देंगे।
रक्षक बनकर इसके हम सब,
इसकी आभा न खोने देंगे।
है गर्व हमें आज़ादी पर अपनी,
इसको कभी न मिटने देंगे।
है गर्व हमें मिट्टी पर अपनी,
इसको धूमिल न होने देंगे।
मातृ भक्ति की खुशबू से,
इसको चंदन कर देंगे।
है गर्व हमें आज़ादी पर अपनी,
इसको कभी न मिटने देंगे।
है गर्व हमें संस्कृति पर अपनी,
इसको संवृद्ध कर देंगे।
देकर इसको नई ऊंचाइयां,
रोशन इसको हम कर देंगे।
है गर्व हमें आज़ादी पर अपनी,
इसको कभी न मिटने देंगे।
है गर्व हमें भारत पर अपने,
अमर नाम इसका कर देंगे।
बरसा कर देशभक्ति का जल,
इसको पावन कर देंगे।
है गर्व हमें आज़ादी पर अपनी,
इसको कभी न मिटने देंगे।

Hindi Poem on Independence Day of India

आज़ादी के पावन पर्व- निधि अग्रवाल

आज़ादी के पावन पर्व की,
कितनी छटा निराली है।
लहराता तिरंगा गगन में,
धरती पर फैली हरियाली है।
कल-कल बहती नदियां हैं,
पावन सी इस धरती पर।
जिस मिट्टी पर वीरों का जन्म हुआ,
जहां उनकी अमिट कहानी है।
है नीले अम्बर में भी देखो,
आज़ादी के सपने संजोए।
उड़ते जाते पंख फैलाये,
कितने सारे पक्षी हैं।
करता नमन हर भारतवासी,
देश के उन वीरों को।
जिनकी वीरता की गाथाएं,
गूंजती सबकी ज़ुबानी है।
ऐसे पावन पर्व में आओ हम सब भी,
स्वयं को पावन कर लेते हैं।
गीतों को गाकर,
आज़ादी को फिर से जी लेते हैं।

Independence day poem in hindi

Must read – Happy Independence Day – 15 अगस्त के मौके पर भेजें whatsapp, sms, quotes,शायरी

tentaran google news

Independence day poem in hindiहमारे फेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर हमें फ़ॉलो करें और हमारे वीडियो के बेस्ट कलेक्शन को देखने के लिए, YouTube पर हमें फॉलो करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

The content and images used on this site are copyright protected and copyrights vests with their respective owners. We make every effort to link back to original content whenever possible. If you own rights to any of the images, and do not wish them to appear here, please contact us and they will be promptly removed. Usage of content and images on this website is intended to promote our works and no endorsement of the artist shall be implied. Read more detailed ​​disclaimer
Copyright © 2022 Tentaran.com. All rights reserved.
× How can I help you?