भारत को मिली बड़ी कामयाबी जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर वैश्विक आतंकी घोषित

UN designates Masood Azhar as global terrorist – पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया गया है। चीन ने इस बार सुरक्षा परिषद में कोई अड़ंगा नहीं लगाया, जिसके चलते मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया जा सका। इसे भारत की वैश्विक स्तर पर बड़ी कूटनीतिक जीत माना जा रहा है। तो चलिए आपको बताते हैं क्या है पूरा मामला।

UN designates Masood Azhar as global terrorist

मसूद अजहर वैश्विक आतंकवादी घोषित

  • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया गया। ये फैसला 1 मई 2019 को हुई बैठक में लिया गया।
  • संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत सैयद अकबरुद्दीन ने कहा, “सभी देशों ने मिलकर यह फैसला लिया है।
  • बीते 10 वर्षों में भारत मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित कराने में कई बार विफल हो चुका था।
  • 2009 में भारत ने ये प्रस्ताव दिया था, फिर 2016, 2017 और 2019 में भी इस प्रस्ताव को रखा गया, लेकिन हर बार चीन इस मामले में अड़ंगा डाल देता था। लेकिन इस बार चीन ने भी हाथ खड़े कर दिए और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कर दिया।
  • इस फैसले का स्वागत कई देशों ने किया है। इस प्रस्ताव को 21 देशों ने समर्थन दिया।
  • प्रस्ताव पेश करने के साथ ही फ्रांस ने अपने देश में मसूद की संपत्तियां जब्त करने का फैसला भी लिया था।

Must Read: Gadchiroli Naxal attack Live Updates: 16 C-60 QR Team Police Personnel killed

क्या होगा बैन का असर?

  • वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने के बाद मसूद अजहर अब संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों की यात्रा नहीं कर सकेगा।
  • संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों में मसूद अजहर की संपत्ति जब्त हो जाएगी।
  • मसूद की पूरी संपत्तियों की जांच भी कराई जा सकती है।
  • मसूद को अन्य देशों से फंड मिलना बंद हो जाएगा। इसके साथ ही वो इन देशों से हथियार भी नहीं खरीद सकेगा। इससे उसके टेरर फंडिंग अभियान पर रोक लगेगी।
  • दुनिया के जिन-जिन देशों में उसके बैंक खाते होंगे, वो सब फ्रीज़ हो जाएंगे। वह कोई नया संगठन नहीं बना सकेगा।

मसूद ने कराए भारत में कई आतंकी हमले

  • मसूद अजहर भारत में कई आतंकी हमले करा चुका है। इसी साल 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला हुआ था। इसकी जिम्मेदारी भी मसूद के संगठन जैश ने ली थी।
  • मसूद 2001 में संसद पर हुए हमले का भी दोषी है। इस हमले में 9 सुरक्षाकर्मियों की जान गई थी।
  • 2001 में श्रीनगर विधानसभा भवन पर फिदायीन हमला किया गया। इस हमले की जिम्मेदारी भी जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।
  • इसके अलावा जनवरी 2016 में जैश के आतंकियों ने पंजाब के पठानकोट एयरबेस पर हमला किया था जिसमें 7 सैनिक शहीद हो गए थे।
  • सितंबर 2016 में उड़ी आतंकी हमले में भी जैश-ए-मोहम्मद का ही हाथ बताया जाता है। मगर जैश ने खुद कभी इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली।

मसूद को भारत ने क्यों छोड़ा था?

  • 1994 में मसूद अजहर पुर्तगाल के पासपोर्ट पर बांग्लादेश के रास्ते भारत में दाखिल हुआ था। इसके बाद वो कश्मीर पहुंचा।
  • अनंतनाग से उसे फरवरी 1994 में गिरफ्तार किया गया था। लेकिन 1999 में मसूद के आतंकियों ने कंधार विमान अपहरण किया, जिसके चलते यात्रियों की सलामती के लिए मसूद अजहर को तत्कालीन सरकार ने रिहा कर दिया।
  • तब से लेकर अब तक वो भारत के खिलाफ कई साजिश रच चुका है और कई आतंकी हमले करा चुका है।

इस खबर पर इन नेताओं ने किया टवीट

  • मौलान मसूद अज़हर को अंतरराष्ट्रीय आतंकीघोषित किए जाने की पुष्टि संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत सैयद अकबरुद्दीन ने ट्वीट करके की, उन्होंने लिखा कि इस काम में बड़े-छोटे (देशों), सभी का साथ मिला, संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध सूची में मसूद अज़हर को आतंकी घोषित कर दिया गया है। समर्थन के लिए सभी का धन्यवाद।


;

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे भारत की बड़ी सफलता बताया है। मोदी ने कहा कि मसूद अज़हर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा आतंकवादी घोषित करने पर आखिरकार विश्व में सहमति बनी, ये संतोष का विषय है। देर आए दुरुस्त आए। आतंकवाद के ख़िलाफ संघर्ष में और आतंकवाद को जड़ से उखाड़ने के लिए लंबे समय से भारत जो प्रयास कर रहा था, ये उसकी बहुत बड़ी सफलता है।


 

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर कहा कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करना भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत है। गडकरी ने इस सफलता के लिए पीएम मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के कूटनीतिक कौशल को श्रेय देते हुए उन्हें बधाई दी है।

वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने सवाल किया है कि क्या यह सच है कि मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित कराने के लिए पुलवामा और जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के मुद्दे को हटा लिया गया! उमर ने कहा कि कश्मीर में आतंक का और पुलवामा का कोई जिक्र नहीं किया गया। यह आश्चर्यजनक है कि प्रतीकात्मक जीत हासिल करने के लिए सीआरपीएफ के लोगों की बलिदानों को कितनी जल्दी बेच दिया गया।

To read more stories like UN designates Masood Azhar as global terroristdo follow us on FacebookTwitter, and Instagram.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

The content and images used on this site are copyright protected and copyrights vests with their respective owners. We make every effort to link back to original content whenever possible. If you own rights to any of the images, and do not wish them to appear here, please contact us and they will be promptly removed. Usage of content and images on this website is intended to promote our works and no endorsement of the artist shall be implied. Read more detailed ​​disclaimer
Copyright © 2019 Tentaran.com. All rights reserved.