Vishnu Aarti in Hindi: ओम जय जगदीश हरे

ओम जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे
भक्त जनों के संकट, दास जनों के अवगुण, क्षण में दूर करे,
ओम जय जगदीश हरे |
जो ध्यावे फल पावे, दुख बिन से मन का
स्वामी दुख बिन से मन का,
सुख संपति घर आवे, बंसरी वाला घर आवे, कष्ट मिटे तन का,
ओम जय जगदीश हरे |

vishnu aarti in hindi
मात पिता तुम मेरे, शरण गहूं मैं किसकी
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी,
तुम बिन और ना दूजा, प्रभु बिन और ना कोई, आस करूँ मैं जिसकी,
ओम जय जगदीश हरे |
तुम पूरण परमात्मा, तुम अंतर्यामी
स्वामी तुम अंतर्यामी,
पार ब्रह्म परमेश्वर, पार ब्रह्म परमेश्वर, तुम सबके स्वामी,
ओम जय जगदीश हरे |
तुम करुणा के सागर, तुम पालन करता,
स्वामी तुम रक्षा करता,
मैं मूरख खल कामी, मैं सेवक तुम स्वामी, कृपा करो भरता,
ओम जय जगदीश हरे |
तुम हो एक अगोचर, सब के प्राणपति
स्वामी सब के प्राणपति,
किस विधि मिलूं दयामय, किस विधि मिलूं दयामय, तुमको मैं कुमति,
ओम जय जगदीश हरे |
दीन बंधु दुख हरता, ठाकुर तुम मेरे
स्वामी रक्षक तुम मेरे,
अपने हाथ उठाओ, अपनी शरण लगाओ, द्वार पड़ा मैं तेरे,
ओम जय जगदीश हरे |
विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा,
स्वामी कष्ट हरो देवा, श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
श्रद्धा प्रेम बढ़ाओ, संतन की सेवा,
ओम जय जगदीश हरे |
ओम जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे
भक्त जनों के संकट, दास जनों के अवगुण
क्षण में दूर करें, ओम जय जगदीश हरे ||

Vishnu Aarti in English

*Team Tentaran.com has tried to bring the Vishnu Aarti in Hingi for your daily use. Though we have put in our best efforts, we do not guarantee that its 100% correct. Use at your own discretion.

For more updates, do Subscribe to our newsletter and follow us on Facebook, Twitter and Google+.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

The content and images used on this site are copyright protected and copyrights vests with their respective owners. The usage of the content and images on this website is intended to promote the works and no endorsement of the artist shall be implied. Read more detailed ​​disclaimer
Copyright © 2019 Tentaran.com. All rights reserved.